8. आशाराम बापू, एक कथावाचक


आशाराम बापू

कथावाचक अथवा शास्त्रीगण

मुरारी बापू, आशाराम बापू, राम किंकर दास, पंक्षी देवी और ऐसे-ऐसे बहुत से कथावाचकगण हैं जो कर्मकाण्डी मान्यता के अन्तर्गत किसी शास्त्र विशेष पर (जैसे भागवत् महापुराण, रामायण, श्रीरामचरित मानस, गीता आदि-आदि ग्रन्थों पर) थोड़ा-बहुत अध्ययन- अध्यापन कर-कराकर खासकर श्रीराम और श्रीकृष्ण जी के लीला वर्णनों को जो हंसाने वाला हो, रुलाने वाला हो, जनमानस को रिझाने वाला हो अर्थात् ऐसे लीला प्रकरणों को जिसमें जनमानस प्राय: रुचि लेते हैं और अधिकाधिक दान-दक्षिणा देते हों, उसे खूब इधर-उधर के प्रकरणों को ले-लेकर जोड़-घटाकर वर्णन करते हैं-- इसकी परवाह किये वगैर कि इनकी अधिकतर व्याख्यायें जोड़-घटाव और मनोरंजन मात्र के लिये हैं, न कि धर्म-सम्बन्धी कोई खास उत्प्रेरक । ऐसा वर्णन करते-करते जनमानस को कभी हँसाते हैं तो कभी रोते-रुलाते हैं और देखते हैं कि अब जनमानस इनके पक्ष-समर्थन में आ गया है तब वे अपने उद्देश्य मूलक दान-दक्षिणा वाले उध्दरणों को मान्यता प्राप्त सद्ग्रन्थों से खोज-खोज कर भाव में बहते- बहाते हुये श्रोतागण के बीच काफी प्रभावक तरीके से प्रस्तुत करते हैं और उसी में झूम-झाम कर जनता भी खूब (बहुत) ही भेंट-चढ़ावा देना शुरू कर देती है । लगता है कि मुक्ति पाने का इस दान-दक्षिणा- भेंट-चढ़ावा के सिवाय दूसरा कोई उपाय ही नहीं !

ऐसे शास्त्री-कथावाचक जन प्राय: 'भूत' प्रधान होते हैं। वर्तमान के तो ये घोर विरोधी होते हैं । ये वर्तमान अवतार के विषय में तो जनमानस के धर्मभाव में वर्तमान कालिक अवतरित भगवत्ता के विरोध रूप मीठा जहर घोलने की सारी जिम्मेदारी अपने ही सिर-माथे ले लेते हैं। इनके इन विरोधात्मक बातों का जनमानस के धर्मभाव रूप दिल-दिमाग पर भारी दुष्प्रभाव पड़ता है क्योंकि इनके सारे तथाकथित धर्मोपदेश भूतपूर्व भगदवतारियों (भगवान श्रीविष्णु जी, भगवान श्रीराम जी और भगवान श्रीकृष्ण जी) के लीलाचरित्रों पर ही अधिक होते हैं। चूँकि ये भगवान के पूर्व अवतारों के लीलाचरित्रों को ही विशेष मान्यता देने वाले होते हैं जिसपर जनमानस की भी मान्यता सहज ही ठहर जाती है, इसलिये इनके बातों पर जनमानस अधिकाधिक विश्वास करने लगता है और वर्तमान अवतार के प्रति नाना प्रकार के विकृत-भ्रान्तियों का शिकार होकर विमुख हो जाता है ।

योग-अध्यात्म और तत्त्वज्ञान की महत्ता इनके पल्ले बिल्कुल ही नहीं पड़ती । न तो ये योग-अध्यात्म और तत्त्वज्ञान के महत्ताा को जानते ही हैं, न तो स्वयं स्वीकार ही करते हैं और न जनमानस को स्वीकार करने देते हैं । यदि किसी श्रध्दालु भक्त में योगी-महात्माओं और वर्तमान अवतार के प्रति जिज्ञासा-श्रध्दाभाव बनती भी है तो ये उसको भी नाना तरह से समझा-बुझाकर उसके वर्तमान कालिक श्रध्दाभाव को समाप्त करते हुये भूतकालिक स्थिति-परिस्थितियों से जोड़-जुड़ाकर अपने में जोड़े-बनाये रखने का प्रयत्न करते रहते हैं क्योंकि पूर्णावतार तो पूर्णावतार ही है, वर्तमान कालिक आध्यात्मिक महात्मागण के सामने भी इनका कोई अस्तित्व नहीं होता है । आध्यात्मिक महात्मागणों के समक्ष भी इनका अस्तित्व नगण्य सा होता है अर्थात् नहीं के बराबर होता है । यदि ये वर्तमान कालिक महात्मन और पूर्णावतार को स्वीकार करने दें तो इनका अपना अस्तित्व ही समाप्त हो जाये । फिर ऐसा ये क्यों करें ?

धर्म-प्रेमी सत्यान्वेषी सांस्कारिक जिज्ञासुजन वर्तमान कालिक पूर्णावतार के स्थिति-परिस्थिति वश सत्संग- धर्मोपदेशों को सुन-सुनकर और वर्तमान लीला कार्यों को सुन-जानकर प्रभावित और आकर्षित होकर अपने विश्वसनीयता को पुष्ट करने के लिये जब वे राय-परामर्श हेतु इन कथावाचक-शास्त्री जनों के पास जाते हैं तो ये सब विशेष ही रुचि ले-दे करके उनके समक्ष शास्त्रीय प्रमाणों को प्रस्तुत कर-करके ऐसे-ऐसे भ्रामक सुझाव देते हैं कि- अरे ! वो भगवान बनता है ! पिछले भगवानों को कोई मान्यता नहीं देता हैं ! आप लोग झुठे भरम-भटक रहे हो -फंस रहे हो ! उनके आंखों में सम्मोहन है ! जो कोई भी उनके सामने पड़ेगा तो उनको वे हिप्नोटाइज (सम्मोहित) कर लेगें ! क्या श्रीविष्णु जी, श्रीराम जी और श्रीकृष्ण जी भगवान नहीं हैं जो आप लोग उन्हें छोड़कर इनके पीछे जाते हो ! आदि-आदि प्रकार से उन जिज्ञासुजनों को समझाने का इन कथावाचक-शास्त्रीजनों का मुख्य कारण-उद्देश्य यह होता है कि यह जनमानस जब उन्हें (वर्तमान कालिक पूर्णावतार को) स्वीकार कर लेगा तो उन्हीं के अनुसार रहने-चलने लगेगा, फिर हम लोगों की सारी मान्यतायें ही समाप्त होने लगेंगी--हम लोगो को मिलने वाला मान-मर्यादा-चन्दा- दान-दक्षिणा-भेंट-चढ़ावा और कार्यक्रमों की फीस आदि भी बन्द हो जायेंगे-- उनके सामने हम लोगों को कोई पूछेगा ही नहीं --इस प्रकार के भय से ये कथावाचक-शास्त्रीजन ग्रसित हो जाते हैं जिसका दुष्परिणाम यह होता है कि वर्तमान कालिक कुछ इने-गिने सांस्कारिक धर्म-प्रेमी जिज्ञासुओं को छोड़कर अधिकतर लोग ही (प्राय: सभी लोग ही) भरम-भटक कर वर्तमान कालिक पूर्णातार से मिलने वाले 'सम्पूर्ण' और 'परमलाभ' से बंचित रह जाते हैं। वे वर्तमान में तो 'हटो-हटो' घोषित करने लगते हैं और चले जाने के पश्चात् 'हरे-हरे' कह-कह कर पुकार करने लगते हैं ।

इन्हीं कथावाचक शास्त्रीजनों में जो अधिक नाटकीय यानी पूर्वकालिक अवतारों के लीला चरित्रों के अन्तर्गत विरोधाभाषी दु:ख और कष्टकारक प्रकरणों को लेकर मंच से जनमानस को रोते-रुलाते तथा अनुकूल और खुशहाल प्रकरणों को ले-ले करके हंसते-हंसाते और रिझाते हुये प्रभावित करते हैं और तब जब जनमानस के भारी भीड़ को अपने पीछे उमड़ता हुआ देखते हैं तो इन्हें अब कथावाचक-शास्त्री बने रहने में परता नहीं पड़ पाता है । तब ये लोग जनमानस के धन और धर्मभाव को उनके बहते हुये भक्ति-भाव के चलते दोहन-शोषण करते हुये सन्त-महात्मा बनने लगते हैं और कथा-प्रवचन करते-करते उसी में मनमाना ऊल-जलूल योग-अध्यात्म और तत्त्वज्ञान पर भी उपदेश देने लगते हैं और उसी को कभी कथा, कभी प्रवचन और कभी सत्संग कह-कहकर वर्णन करने लगते हैं । यानी इन्हें इन तीनों का अन्तर भी नहीं मालूम होता है। योग या अध्यात्म और तत्त्वज्ञान पर इस प्रकार दिये गये इनके उपदेश सरासर भ्रामक तो होते ही हैं, मिथ्या यानी गलत भी होते हैं, लेकिन जनमानस उनके चालों-जालों में फंसकर उसी भरम-भटकाव का शिकार हो जाया करता है ।

इतना ही नहीं, ये कथावाचक शास्त्रीजन इन भरमे-भटके जनसमूह को अपने पीछे देखकर अब ये कथावाचक-शास्त्री कहलाने में अपने को अपमानित और शर्म तो महसूस करते ही रहते हैं, आध्यात्मिक सन्त-महात्मा बने रहने -कहलाने में भी अब इन्हें अपमान-शर्म महसूस होने लगता है और पूर्वकालिक लीला-अवतार का चरित्र-वर्णन करते-करते स्वयं लीला पुरुष बनने लगते हैं और अपने पीछे रहने-चलने वाले समर्पित-भक्तों की टीम-टोली बनाकर अब कुछ तो अपनी मान्यता भी लीला पुरुष-पूर्णावतार के रूप में प्रस्तुत करने लगते हैं । राजसत्ता मिल जाती तो ये पूर्ण रावण जैसे ही हो जाया करते फिर भी राजविहीन रावणीय विचार-भाव वाले तो ये होते ही हैं। नि:संदेह यह सत्यता पर आधारित उल्लेख है, न कि किसी का किसी प्रकार निन्दा-अपमान करने के अन्तर्गत।

ये कथावाचक-शास्त्री जी लोग इस बात को भूल जाते हैं कि आत्मा-ईश्वर-ब्रम्ह-दिव्य ज्योति- ज्योर्तिविन्दु रूप शिव और इनके प्राप्ति से सम्बन्धित योग-अध्यात्म और परमात्मा-परमेश्वर-परमब्रम्ह- खुदा-गॉड-भगवान और इनके प्राप्ति से सम्बन्धित 'तत्त्वज्ञान' विधान-- ये दोनों ही पढ़ने-सुनने और विचार मात्र से जानने-समझने में आने वाले नहीं हैं, भले ही लाखों-करोड़ों जन्मों तक पढ़ा-समझा-विचार किया जाय । इन दोनों (योग- अध्यात्म और तत्त्वज्ञान) की वास्तविक जानकारी क्रमश: सक्षम अध्यात्मवेत्ता (गुरु) और पूर्णावतार रूप तत्त्ववेत्ता (सदगुरु) से ही यथार्थ जानकारी और साक्षात् दर्शन सहित वास्तविक समझ की प्राप्ति सम्भव है । चाहे जो कोई भी हो, चाहे जितना बड़ा शास्त्री-विद्वान-दार्शनिक आदि क्यों न हो, मगर योग- अध्यात्म की वास्तविक जानकारी सक्षम अध्यात्मवेत्ता (गुरु) के सिवाय सम्भव ही नहीं है क्योंकि यह शिक्षा और विचार-मनन-चिन्तन का विषय ही नहीं है। यह तो योग-क्रिया अथवा अध्यात्मिक क्रिया अथवा समुचित साधनात्मक पध्दति से ही सम्भव है । ठीक इसी प्रकार 'तत्त्वज्ञान रूप भगवद्ज्ञान' भी शिक्षा- स्वाध्याय (मनन-चिन्तन-विचार) आदि से तो सम्भव ही नहीं, योगिक क्रियाओं से भी सम्भव नहीं है। तत्त्वज्ञान के लिये पूर्णावतार रूप तत्त्ववेत्ताा (सदगुरु) की शरणागति और एकमात्र केवल उन्हीं से इनकी प्राप्ति सम्भव है । पूरे ब्रम्हाण्ड में अन्य किसी से भी नहीं ! कदापि नहीं!!

इन कथावाचक-शास्त्री लोगों को कौन समझावे कि योग-सिध्द सक्षम अध्यात्मवेत्ता (गुरु) ही बनने-बनाने का पद नहीं होता, और जब अध्यात्म का पिता रूप 'तत्त्वज्ञान' और आत्मा-ईश्वर-ब्रम्ह के भी पितारूप परमात्मा-परमेश्वर-परमब्रम्ह- खुदा-गॉड-भगवान की प्राप्ति ही पूर्णावतार रूप तत्त्ववेत्ता (सदगुरु) के वगैर सम्भव नहीं है, तब उस परमपद पर मनमाना अपने आपको घोषित करना--लीला पुरुष बनना--इसे झूठा और भ्रामक मात्र न कहकर घोर हास्यास्पद भी कहा जाय तो भी कम ही है क्योंकि भगवान और भगवदवतार कोई बनने-बनाने का विषय-वस्तु-पद नहीं होता है ! यह तो वह पद है जो था, है और सदा रहने वाला भी है। 'एक' था, 'एक' है और सदा 'एक' ही रहने वाला भी है ।

ये कथावाचक-शास्त्रीगण जी लोग पूर्व के अवतार और देवी-देवताओं का लीला वर्णन और कथा-चित्रण करते-कराते हुये इस बात को महत्तव क्यों नहीं देते कि पूर्णावतार अपने अनुयायी-भक्त-सेवकों से न तो किसी का भी कोई मन्त्र जाप करवाता है, न तो किसी अन्य का कोई पूजा-पाठ करवाता है और न तो किसी अन्य देवी-देवता का कोई कथावाचन ही करता-कराता है, न तो किसी शास्त्र विशेष पर ही कथावाचन करता है। इतना ही नहीं, वह किसी से दान-दक्षिणा भी नहीं लेता है । अपने उपदेश की कोई फीस भी नहीं मांगता । पूर्णावतार मन्च पर कभी नाच-गान कर किसी का कीर्तन नहीं करता-कराता है । श्रीराम जी श्रीविष्णु जी का और श्रीकृष्ण जी श्रीराम जी का अपने उपदेश में श्रोतागण से कीर्तन नहीं करते-कराते थे । जाप नहीं कराते थे, अजपा-जप की क्रिया और ध्यान भी नहीं करते-कराते थे बल्कि स्वयं अपने वर्तमान कालिक पूर्णावतार रूपी भगवत्ता को 'तत्त्वज्ञान' के प्रायौगिक विधान से साक्षात् कराते हुये उपदेश करके गोपनीयता की मर्यादा रखते हुये भगवत्तत्त्वम् को जनाने-समझाने और साक्षात् दिखलाते हुये अपने वास्तविक भगवद् रूप का परिचय-पहचान कराते हैं और समर्पित शरणागत भक्त-सेवकों को सम्पूर्ण (संसार-शरीर-जीव- ईश्वर और परमेश्वर) को यथा स्थान और एकत्त्व बोध रूप में भी अपने विराट रूप सहित साक्षात् दर्शन भी कराते हैं।

ये वर्तमान कथावाचक जी लोग अपने भक्तजनों को विराट दर्शन कराने की बात तो दूर रही, क्या वे स्वयं भी मामूली जीव का भी दर्शन किये हैं ? नहीं ! कदापि नहीं!! इन कथावाचक शास्त्रीजनों को तो परमेश्वर का दर्शन तो दुर्लभ ही रहा है, है भी, ईश्वर दर्शन भी इनके लिये दुर्लभ ही चीज है। इतना ही नहीं, ऐसा धरती का कोई कथावाचक शास्त्री नहीं जो कह सके कि हम जीव मात्र को भी जाने-देखे हैं ।

इन शास्त्री लोगों की बात तो अलग हटाइये, वर्तमान कालिक तथाकथित आध्यात्मिक गुरुजन और बनने वाले भगवान जी लोग भी नहीं कह सकते कि 'हम जीव जानें-देखें हैं ।' क्या धरती का कोई भी कथावाचक-शास्त्री और आध्यात्मिक गुरुजन भी मेरे इन उपर्युक्त कथनों को गलत प्रमाणित करने का साहस कर सकता है ? जबकि मैं (सन्त ज्ञानेश्वर स्वामी सदानन्द जी परमहंस) तो आवश्यकता पड़ने पर भगवद् समर्पण-शरणागत के शर्त पर प्रायौगिक आधार पर भी अपने उपर्युक्त समस्त कथनों को प्रमाणित-सत्यापित करने-कराने के लिये सदा-सर्वदा तैयार हूं ।
पूर्णावतार-तत्त्ववेत्ता (सदगुरु) चाहे वे श्रीविष्णु जी हों, चाहे श्रीराम जी हों अथवा चाहे श्रीकृष्ण जी महाराज ही क्यों न हों, अपने समर्पित-शरणागत भक्त-सेवकों को 'तत्त्वज्ञान' देने के अन्तर्गत संसार-शरीर-जीव-ईश्वर (आत्मा-ब्रम्ह) माया और परमेश्वर (परमात्मा-परमब्रम्ह- खुदा-गॉड-भगवान) को सरहस्य बात-चीत सहित साक्षात् दर्शन सहित क्रमश: शिक्षा, स्वाध्याय, अध्यात्म और तत्त्वज्ञान आदि समस्त जानकारियों को जनाते-बताते थे । मगर व्यवहार में किसी से मन्त्र-जाप, तान्त्रिक क्रिया, जप-तप और यहां तक की योग या अध्यात्म की ध्यान-क्रिया-साधना आदि-आदि कुछ भी नहीं करवाते थे, बल्कि सीधे- सीधे अपनी सीधी भक्ति-सेवा में लगाते थे। इसकी परवाह किये वगैर कि कोई क्या कहेगा और क्या करेगा। वर्तमान में सन्त ज्ञानेश्वर स्वामी सदानन्द जी परमहंस जी भी तो वही और वैसा ही कर-करा रहे हैं । कोई भी जांच-परख कर निर्णय ले सकता है कि क्या ये उपर्युक्त बातें श्रीविष्णु- राम-कृष्णजी के जैसा ही-- सही ही नहीं है अथवा नहीं ?

हम तो समस्त कथावाचक-शास्त्रीजनों से और योग-साधना-आध्यात्मिक क्रिया कराने वाले अध्यात्मवेत्तागण् महात्मनों से भी यही कहेंगे कि वे थोड़ा भी तो जानने-समझने की कोशिश तो करें और किसी भी गुरुजन के शिष्य जन भी उपर्युक्त पैरा के तथ्यों को जानने-समझने की कोशिश भी तो करें कि क्या पूर्वोक्त पैरा की सारी की सारी बातें सत्य ही नहीं है ? सत्य ही हैं और बिल्कुल ही सत्य ही हैं । अब समस्त तथाकथित भगवान जी लोगों को उपर्युक्त आधार पर आत्म-निरीक्षण कर-कराकर ईमान से सच्चाई को अपना कर वर्तमान कालिक पूर्णावतार-तत्त्ववेत्ताा को अपनाकर किसी अपमान-मान-सम्मान को आड़े लाने के बजाय समर्पित-शरणागत होकर परमलाभ से लाभान्वित होते हुये अपने-अपने शिष्यगण के जीवन को भी सफल-सार्थक बनाने में बेहिचक आगे आना चाहिये । क्या नहीं आना चाहिये ? जांच-परख की मनाही तो कर नहीं रहे हैं, जांच-परख किया जाय, खूब किया जाय, मगर हर प्रकार से सत्य ही होने पर तो स्वीकार किया जाय ।

भगवान् के शरण में आने से किसी की भी कभी भी कोई मर्यादा नहीं गिरती अपितु सदा-सर्वदा बढ़ती ही रहती है । उदाहरण के लिये देखा जाय कि सत्ययुग में श्रीविष्णु जी के समय में, त्रेतायुग में श्रीराम जी के समय में और द्वापरयुग में श्रीकृष्ण जी के समय में वर्तमान की तरह ही बहुत से योगी-यति-ऋषि- महर्षि- ब्रम्हनिष्ठ-तथाकथित भगवानों की कमी नहीं थी, मगर इन लोगों के शिष्यजनों का भगवद् भक्ति-सेवा के अस्तित्त्व और महत्ता-मर्यादा के अन्तर्गत तो कहीं किसी का कोई अस्तित्व-मर्यादा नहीं मिलेगा । क्या कहीं किसी का अस्तित्व महत्ता-मर्यादा है ? नहीं! कदापि नहीं !! इन तथाकथित ऋषि-महर्षि-ब्रम्हनिष्ठ जन भी भक्ति-सेवा के अस्तित्व-महत्ता-मर्यादा में कहीं नहीं है जबकि वे भगवान के पूर्णावतार तो नहीं ही बन पाये, भगवान के समर्पित-शरणागत गिध्द (जटायू), कौआ (काक भुषुण्डि), बानर (हनुमान), भालु (जामवन्त) आदि-आदि के बराबर भी होने-रहने की मान्यता भी नहीं पा सके, बड़े होने की बात ही कहाँ ? क्या आप इन तथाकथित गुरुजनों के शिष्यजनों को उपर्युक्त तथ्यों के आधार पर समझने-सम्भलने की कोशिश नहीं करना-कराना चाहिये? करना-कराना ही चाहिये। अवश्य ही करना-कराना चाहिये क्योंकि हर किसी का मानव जीवन एक अनमोल रतन है । इसको कभी भी व्यर्थ नहीं जाने देना चाहिये। ईमान से सत्यता को अपनाकर अपने जीवन को सार्थक-सफल बना ही लेना चाहिये ।

यदि कथावाचक-शास्त्री जी लोग मन्त्र जाप आदि-आदि कर-करवाकर भगवान बनना चाहते हैं और पतनोन्मुखी सोहं-साधना वाले तथाकथित अध्यात्मवेत्ता जी लोग आध्यात्मिक क्रिया कर-करा करके भगवान बनना चाहते हैं तथा उपर्युक्त दोनों वर्ग अपने में और सबमें समान रूप से भगवान होने-रहने की उद्धोषणा करते हैं-- तो क्या ऐसा कभी पूर्व के अवतारों में हुआ है ? नहीं ! कदापि नहीं !! इतना ही नहीं, नारद जी यदि जाप भी करते थे तो श्रीविष्णुजी का- 'नमो भगवते वासुदेवाय' अथवा 'श्रीमन् नारायण, नारायण, नारायण' अथवा 'हरेर्नामैव, हरेर्नामैव, हरेर्नामैव' और हनुमान जी तो इन पूर्व के अवतार (श्रीविष्णु जी के) नारद जी वाले इन नामों से किसी का भी कभी भी कोई जाप न करके केवल वर्तमान का 'जय श्री राम, जय श्री राम, जय श्री राम' कह-कह करके जयकार-उद्धोष करते रहते थे। ऐसे ही अर्जुन ने भी कभी भी श्रीविष्णुजी और श्रीरामजी का नाम नहीं जपे बल्कि वर्तमान कालिक श्रीकृष्ण जी के ही आज्ञानुसार रहे-चले।

क्या इन पूर्वोक्त तथ्यों के आधार पर अपनी स्थिति और श्रेणी हर किसी तथाकथित भगवान् को नहीं जान-परख लेना चाहिये ? मन्त्र जाप, नाम जाप, योग-क्रिया-साधना मात्र आदि करना-करवाना अपूर्णता-अधूरापन का संकेत है। क्या नहीं है ? अवश्य ही है । ऐसे लोग भी कभी भगवान और भगवदवतार हो सकते हैं ? नहीं ! कदापि नहीं !! भगवान् और भगवदवतार इन मन्त्र जाप, नाम जाप, योग की क्रियाकलाप आदि से परे और परम होता है जो 'एक' था, 'एक' है और सदा ही 'एक' ही रहने वाला भी है।

शिष्य-अनुयायीगण चाहे वे जिस किसी गुरु के ही हों, ईमान से सच्चाई को अपनावें तो नि:संदेह यह रहस्य उनके सामने प्रकट हो जायेगा कि जीवन का उद्देश्य गुरु खोजना-पाना और गुरु-भक्ति मात्र करना-कराना न कभी था, न आज है और न आगे रहेगा । खोजना-पाना तो भगवान है ! मोक्ष है ! भक्ति तो भगवान की होती है, गुरु मात्र की नहीं ! गुरु तो मात्र आदर-सम्मान का पात्र आदरणीय हो सकता है, मगर पूज्य-पूज्यनीय तो एकमात्र परमप्रभु परमेश्वर-खुदा- गॉड-भगवान ही हो सकता है अन्यथा दूसरा कोई भी नहीं ।

जब हम गुरु को ही पाने में और गुरु में ही चिपकने में लग जायेंगे तब तो गुरु एक साथ ही हजारों-हजारों होते हैं, हैं भी ! क्या सभी गुरु भगवान जी ही हैं ? क्या इससे आडम्बर-ढोंग और पाखण्ड को बढ़ावा नहीं मिलेगा? भगवान तो 'एक' था, है और सदा ही 'एक' रहने वाला है। क्या इससे वास्तविक परख-पहचान नहीं हो जायेगा कि हम गुरु को नहीं, भगवान को स्वीकार करेंगे ? गुरु तो मात्र एक डाकिया (Postman) के समान होता है जो भगवान के ज्ञान को भगवद् भक्तों को देता-रहता है । किसी भी गुरु से पूछा जाय तो पता चलेगा कि ज्ञान वास्तव में भगवान् का होता है और भगवान् के लिये होता है । क्या यह सही ही नहीं है ? निश्चित ही सही है । जब हम भगवान खोजेंगे तब हम आडम्बरी- ढोंगी- गुरुओं में भटकने-लटकने नहीं पायेंगे । अपने सच्चे मन्जिल तक अवश्य पहुंच जायेंगे। क्या दत्तात्रेय सच्चाई खोजने हेतु चौबीस गुरुओं तक नहीं बढ़े ? क्या काग भुषुण्डि के लोमस ऋषि ब्रम्हनिष्ठ गुरु नहीं थे ? क्या बाल्मीकि-वशिष्ठ आदि सभी गुरुजन तपोनिष्ठ-ब्रम्हनिष्ठ नहीं थे जो श्रीराम जी के सामने हाथ जोड़कर प्रार्थना करते हुये चरण भक्ति-सेवा मांगे ? क्या नारद जी ब्रम्हनिष्ठ नहीं थे जो केवल पूर्णावतारी श्रीविष्णु-राम-कृष्णजी के ही भक्ति को अपनाये? इतना ही नहीं, आप लोग एकबार और देख लीजिये। पुन:दोहरा दे रहा हूं कि किस ऋषि-महर्षि- सन्त-महात्मा-ब्रम्हनिष्ठ के शिष्य का अस्तित्तव- महत्ता-मर्यादा भक्ति-सेवा के अन्तर्गत जनमानस में है? किसी का भी नहीं ! अरे शिष्यों की बात तो छोड़िये! इन तथाकथित गुरुजनों का अस्तित्तव और मर्यादा भी भगवद् भक्त-सेवक गिध्द (जटायु), कौआ (काक भुषुण्डि) के बराबर भी नहीं रहा है । महादेव-महेश्वर को भी कौआ (काक भुषुण्डि) का शिष्यत्तव ग्रहण करने में कोई मान-सम्मान आडे नहीं आया । अपमान महसूस नहीं हुआ । क्या महादेव से भी बड़ा कोई ऋषि-महर्षि-ब्रम्हर्षि था, या है ? यदि कोई कहता है कि हमारे गुरुदेव उनसे भी बड़े ही है तो यह सरासर झूठ और छलावा है । इसकी प्रमाणिकता की आवश्यकता हो तो मेरे (सन्त ज्ञानेश्वर स्वामी सदानन्द जी परमहंस के) पास सद्ग्रन्थीय मान्यताओं के आधार पर भरपूर प्रमाण है । जब महादेव-महेश्वर को भगवान् नहीं बल्कि भगवान के एक कौआ शिष्य-भक्त के शिष्यत्त्व को ग्रहण करने में अपमान नहीं लगा, मान-सम्मान आड़े नहीं आया फिर आप लोग मान-सम्मान को आड़े क्यों आने दे रहे हैं? क्या किसी भी ऋषि-महर्षि- तपोनिष्ठ-ब्रम्हनिष्ठ का कोई मन्दिर है जहां इन लोगों का पूजा-आराधना हो रहा हो? न मन्दिर हो मगर क्या किन्ही मन्दिर में इन लोगों का कहीं कोई प्रतिष्ठित पूज्यनीय स्थान भी है ? अयोध्या में बाल्मीकि भवन तथा तुलसी मन्दिर और बशिष्ठ भवन आदि भी हैं तो श्रीराम जी के नाम पर हैं, न कि उनके तपोनिष्ठ या ब्रम्हनिष्ठ होने के आधार पर हैं । नैमिषारण्य में व्यासपीठ है तो वह भी उनके तपोनिष्ठ होने के कारण नहीं बल्कि श्रीकृष्ण जी के श्रीमद्भागवत् महापुराण लिखने पर है । प्रयागराज में भारद्वाज आश्रम है तो वह उनके तप के आधार पर नहीं बल्कि श्रीराम जी के वहां पहुंचने पर है। ऐसा कोई भी आश्रम जहां श्रीराम-श्रीकृष्ण जी न पहुंचे हों, उसको कहीं भी कोई महत्व नहीं मिला । है भी तो बहुत कम और सामान्य मान्यता वाला।

ईमान-सच्चाई से पूर्णावतार की भक्ति-सेवा करने वाले गिध्द-कौआ-बानर-भालू-गिलहरी तक भी श्रीविष्णु-राम-कृष्ण जी के साथ-साथ भक्ति-सेवा में महत्ताा में-- कोई-कोई तो इनसे भी अधिक छाये हुये हैं । क्या सुधरने-सम्भलने के लिये ये सब उपर्युक्त तथ्य काफी नहीं हैं ? बन्चित रह जाने पर भगवान को कोई दोष दे करके कोई लाभ पा पायेगा ? जबकि आप सभी के समक्ष इतना स्पष्ट तथ्य प्रस्तुत किये जा रहे हों और तब भी आप सब न चेत-सम्भल पा रहे हों, इसमें भगवान् का क्या दोष ?

भइया ! ईमान और सच्चाई को आगे लाइये। सुधरिये और सम्भलिये ! परमतत्त्व रूप परमसत्य रूप परमप्रभु को ही अपनाकर उन्हीं की शरण गहिये। इसी में आप सबका परमकल्याण है । मेरी भी यही शुभेच्छा है । भगवान् आप सबका भला करे !

यह सत्य के रूप में आप सबसे अन्तिम बार कहा जा रहा है कि आप चाहे जो कोई भी गुरुजन-तथाकथित सद्गुरुजन अथवा जिस किसी के शिष्यजन क्यों न हों, जरा सा निष्पक्ष और तटस्थ भाव में होकर ईमान और सच्चाई से अपने को थोड़ा देखिए तो सही कि क्या यह सत्य नहीं है ? कि ऊपर से नीचे के क्रम में परमात्मा- परमेश्वर-परमब्रम्ह-खुदा-गॉड-भगवान के विषय में कोई दर्शन-जानकारी आप सब के पास है ही नहीं, आत्मा-ईश्वर-ब्रम्ह-नूर-सोल-स्पिरिट की भी आदि-अन्त सहित जानकारी भी नहीं है । इतना ही नहीं, धरती का कोई भी धर्मोपदेशक-गुरु चाहे वह कथावाचक शास्त्री हों या वेदान्ती, चाहे वह स्वाध्यायी ('अहं ब्रम्हास्मि' वाले) हों या पतनोन्मुखी सोऽहँ- ज्योतिर्विन्दु शिव वाले तथाकथित अध्यात्मवेत्ता ही क्यों न हों-- जीव क्या है, कैसा होता है, कहां से आता है, शरीर में किस प्रकार से प्रवेश करके कहाँ रहता है और अन्तत: निकलकर कहां जाता है-- यह सब किसी को भी मालूम नहीं। आप सब में से किसी में भी यह दम-खम या क्षमता-शक्ति नहीं है कि वह यह कह सके कि हमने जीव को देखा है । यह बिल्कुल ही सत्यता और सद्ग्रन्थीय प्रमाणिकता के आधार पर ही कहा जा रहा है।

आप सब कथावाचक अथवा वेदान्ती और योगी- आध्यात्मिक गुरुजन को अज्ञान और घोर भ्रमवश झूठी और भ्रामक मान्यता के अन्तर्गत रहने के नाते मेरे इन उपर्युक्त कथन पर थोड़ा-बहुत तकलीफ हो सकता है। आपके भावनाओं पर थोड़ा-बहुत ठेस भी लग सकता है क्योंकि आपको अपने विषय में दिखाई दे रहा होगा कि मेरे पास इतने धन-शिष्य-अनुयायीजन हैं, मेरे पास इतने आश्रम हैं, मेरा इतना प्रचार-प्रसार है, मेरी इतनी भारी मान-मर्यादा है । क्या युक्त धन वाले कुबेर से भी अधिक धन है ? जन (शिष्य- अनुयायीगण) वाले इन्द्र से भी अधिक अनुयायी हैं ? आश्रम निर्माण वाले सृष्टि रचना कर्ता विश्वकर्मा-ब्रम्हा से भी अधिक रचना है? क्या दस हजार शिष्यों को पीछे-पीछे लेकर चलने वाले सिध्द दुर्वासा से भी अधिक पीछे-पीछे रहने वाले जन (प्रचार) और अधिक सिध्दि है? ब्रम्हा-इन्द्र-महेश से भी अधिक मान-मर्यादा आदि कुछ है ? नहीं ! कदापि नहीं !! ईमान और सच्चाई से जरा सोच-समझ और अपने आप को देख तो लें । फिर मिथ्या अभिमान और मिथ्या अहंकारवश मात्र उपर्युक्त तथ्यों के आधार पर अपने आप को भगवान अथवा भगवदवतार मानना- मनवाना क्या सही और उचित है ? नहीं ! कदापि नहीं!! शिष्यगण को भी मात्र उपर्युक्त तथ्यों के आधार पर अपने गुरुजी को-- तथाकथित सद्गुरुजी को भगवान अथवा भगवदवतार घोषित कर-कराकर उन्हीं में चिपके रहना क्या सही और उचित है ? नहीं ! कदापि नहीं !! तथा मैं इतने भारी गुरुजनों का शिष्य और अनुयायी हूं तब भी मेरे को ऐसा कहा जा रहा है कि हम परमात्मा-परमेश्वर- खुदा-गॉड-भगवान को नहीं जानते और आत्मा-ईश्वर-ब्रम्ह-नूर-सोल-स्पिरिट- ज्योतिर्विन्दु रूप शिव के आदि-अन्त (क्योंकि आदि-अन्त की आप लोगों के दृष्टि में मान्यता ही नहीं है जबकि सच्चाई में आदि-अन्त है) को भी नहीं जानते! इतना ही नहीं, हम लोगों को यहां तक कहा जा रहा है कि जीव-रूह-सेल्फ-स्व-अहं को भी साक्षात् देखे तो हैं ही नहीं, यथार्थत: जानते भी नहीं। यह तो एक घोर अहंकारिक बात है ।

इस पर मैं (सन्त ज्ञानेश्वर स्वामी सदानन्द जी परमहंस) आपके परमहितेच्छु रूप में यही कहूंगा कि मुझे घोर अहंकारी मान लेने मात्र से क्या आपको कुछ मिल जायेगा ? कुछ नहीं मिल पायेगा ! मैं तो यह कह रहा हूं कि ईमान और सच्चाई से आप अपने स्थिति-परिस्थिति को देखिये । फिर नि:संदेह निश्चित ही आपको अपने निर्णय में मिलेगा कि उपर्युक्त सारे कथन 'सत्य' ही हैं और सद्ग्रन्थीय आधार पर प्रमाणित भी हैं। यदि उपर्युक्त बातें समझ में-- पकड़ में न आ पा रही हों तो आप सब मुझसे मिल-बैठकर प्रेमभाव से-- अपनत्त्व भाव से-- ईमान और सच्चाई से वास्तविकता को-- वास्तविक सत्यता को खुले दिल-दिमाग से मुझसे यथार्थत: जान- देख- परख-पहचान कर-करा जाँचिये तो सही, मगर भगवद् समर्पण-शरणागत होने-रहने-चलने के शर्त पर ही क्योंकि 'तत्त्वज्ञान' वगैर भगवद् समर्पित-शरणागत को मिलता ही नहीं और जब तक 'तत्त्वज्ञान' मिलेगा नहीं तब तक उपर्युक्त तथ्यों की बात-चीत-परिचय-पहचान सहित साक्षात् दर्शन और यथार्थत: जानकारी हो ही नहीं सकती। यह एक परम सच्चाई है । इसमें मेरा कोई अहंकार नहीं, बल्कि भगवत् कृपा रूप 'तत्त्वज्ञान' का प्रभाव है । यही एकमात्र 'एक' सच्चाई है । जांच-परख-पहचान की खुली छूट, मगर सद्ग्रन्थीय आधार पर, मनमाना कुछ भी नहीं, क्योंकि मेरे पास मनमाना नाम का कोई चीज या कुछ भी नहीं है । जो कुछ भी है, सब भगवदीय है । सब भगवत् कृपा ।

तत्त्ववेत्ता परमपूज्य सन्त ज्ञानेश्वर स्वामी सदानन्द जी परमहंस

'पुरुषोत्ताम धाम आश्रम',
पुरुषोत्ताम नगर- सिध्दौर, बाराबंकी-225 413 उ0 प्र0 (भारत)
दूरभाष : 05222346613, मोबाइल : 09196001364

Submit Your Feedback

Total Views: 214